Gleichgewichtspreis bei perfektem Wettbewerb Hindi | Märkte | Wirtschaft

Lesen Sie diesen Artikel auf Hindi, um mehr über die Auswirkungen von Nachfrage- und Angebotsänderungen auf den Gleichgewichtspreis im perfekten Wettbewerb zu erfahren.

माम एवं पूर्पूर के्सन हो जाज के बाद सन्सन कीमत्निराध होतीाजा थाथा है किन्तु व्यावहावह जीवन में्वस की्वस तुाम ँग तथावस ति्वस तुाम ऐसी ऐसीा में स दोनों स्सापित सन्सन टूट जाजा है और फलस्फलसाओं पर अलग-अलग प्पारभ पड़ते

सन्सन में परिवर्परिवर तन कुछ्भाभ दशादश निम्निम हैं:

( i) केवल Changesाम में में्परिवर का प्पाव (Auswirkung von Nachfrageänderungen):

पूर्पूर के यथास्स रहते हुएाम की वृद्वृद अथवा कमी कीमत क्क बढ़ायेगी अथवा घटायेगी। इस इस्स को चित्चित 2 में्स्पष किया गया है है आरम्आरम सन्सन बिन्बिन K है हैाँ माम एवं एवं्पूर की मात्ताएँ OQ के केाबर तथा निर्निरारित कीमत OP के बराबर बर है माम में वृद्वृद होने के केारण माम वक्वक DD के्साथ पर D 1 D 1 हो होाजा है है

स्स पूर्ति वक्र SS तथा परिवर्तित माँग वक्वक D 1 D 1 का सन्सन बिन्बिन K 1

इसके इसके विपरीताम ँग के हो जाज नेाम वक्वक D 2 D 2 होाजा है है इस इस नयेाँग वक्र पर K 2 बिन्बिन पर नया सन्सन उपस्उपस होता हैाँ वस्वस की OP कीमत से OP 2 तथा विनिमयात्ता OQ से है OQ 2 रह रहाज ती है

इस्रकार स्पष्ट है कि्पूर ति्स रहने रहने माम की वृद्वृद धि्सन सन्सन तुलन वृदावृद हो्वक्तार है और्वृद ज्हो जाद जाज इसके इसके पूर्पूर के्स रहने रहनेाक वस्वस की कीमत एवंाविनिमय्ता दोनों में कमी कमी होाज ती हैाँग वक्साथान्न हो

( ii) Auswirkung von Angebotsänderungen:

माम के स्स रहने की कीा में में्पूर की वृद्वृद अथवा कमी्वस की कीमत कीमत्क घटाघट येगीा बढ़ायेगी। इस इस्स को चित्चित 3 में दिखाया गया है है सन्सन का आरम्आरम बिन्बिन K है हैाजह वस्वस की OP तथा विनिमयात्ता OQ है है

पूर्पूर की्वृद दशा में्पूर वक्वक S 1 S 1 हो होाता है हैारण विनिमय माक्ता बढ़कर OQ 1 हो होाज है्किन कीमत OP 1 रह रहाज है है इसके इसके ति्पूर घटने पर्पूर वक्वक S 2 S 2 हो जाजा है जहाजह विनिमय

इस्रकार स्पष्ट है हैाम के्स थिर रहते्पूर थिर पूर्पूर ति कीाम्ता में्वृद धि है है तब विनिमय्विनिमया त बढ़ायेगी। इसके इसके पूर्पूर की माम्ता में कमी कमी पर नवीन कीमत बढ़ाज तथा विनिमय मात्ता कम हो होाज।

(iii) माम तथातथ पूर्पूर मेंास-सास परिवर्परिवर का प्पाव (Auswirkung der gleichzeitigen Änderung von Angebot und Nachfrage):

जब माम एवं पूर्पूर में एक सास परिवर्परिवर होते हैं हैं्सन तुलन कीमत और विनिमय्पारभ पड़ते पड़ते हैं

माम एवं पूर्पूर परिवर्परिवर की कीादश उत्पन्पन हो सकती हैं:

ein. जब माति और्पूर में मेंासम परिवर्परिवर होतायथ्स (OP) में वृद्वृद (OQ से OQ 1 ) होती होती (देखें्चित 4)।

b. जब पूर्पूर की तुलना में मेंाम में अधिक्वृद धि है है धि्सन तुलन कीमत्वृद हो होाज है है चित्चित 5 में्पूर की तुलना में माम की वृद्वृद धि अधिक, फलस्फलस सन्तुलन कीमत में PP 1 की्वृद हो जाज है है

c. जब माम की तुलना में पूर्पूर में अधिक्वृद हो जाज ती तब्सन कीमत में में कमीाज ती है चित्चित 6 में माँग की कीा में पूर्पूर ति्वृद धि अधिक फलस्फलस सन्सन कीमत में PP 1 की कमी होाज है है

(iv) Auswirkung der Änderung der Bedingungen der gemeinsamen Nachfrage:

जब जब वस्वस का उपभोग उपभोग-दूसरे सेा होता है है्उन संयुक्संयुक माम की वस्वस कहते कहते; जैसे - दूध दूध औराच, काक और पेट्पेट, डबल डबल रोटी्मक आदि आदि

ऐसी ऐसी ऐसी दश में वस वस की म क की परिवर परिवर अलग अलग अलग की की की नहीं अलग अलग अलग अलग अलग अलग नहीं ।

दोनों वस्वस की कीमतों कीमतों कितना परिवर्परिवर होगा यह यह वस्वस पूर्पूर की लोच पर निर्निर करता है है इस स्थिति की व्याख्खा चित्चित 7 में की गयी गयी है

चित्चित र से्स्पष है किापूर मावृद में्वृद होने्वृद से होने से्दूध (OQ 1 = OQ 2 ) होती्पूर किन्किन भिन्भिन-पूर्ति दशादश पाप जाज है है

(v) Auswirkung der Änderung der Bedingungen für die gemeinsame Versorgung:

जब जब अथव्वस की्प पूरा उत्उताप एक सास थ हैं हैं्वस त्वस कह्वस तुएँाता है - गेहूँ गेहूँ भूसा, रुई रुईा आदि

इस वसा में यदि यदि्वस की्पूर में्में परिवर्परिवर होता है तो्वस तु्वस तु्पूर ति भीान अनुपाहै में्परिवर होता है लेकिन वस दोनों्वस की माम दशादश भिन्भिन-भिन्भिन हो सकती हैं हैं अतः वस वस्वस की माँग का परिवर्परिवर दूसरी्वस की की कीमतासम परिवर्परिवर उत्पन्पन नहीं करेगा। इस इस्स को चित्चित 8 में दिखाया गया है है

चित्चित र स्पष्पष है कि गेहूँ माम में में निश्निश वृद्वृद (OQ से OQ 1 ) के्फलस परिवर्परिवर (OQ से OQ 2) होताँ OQ 1 = OQ 2 लेकिन लेकिन वस वस अलग अलग वस दश वस वस वस अलग अलग में क वस वस गेहूँ की की में से से (चित्चित चित OP 1 ) तथा तथ भूसे की की OP 2 )

 

Lassen Sie Ihren Kommentar