Grad der Preiselastizität der Nachfrage Hindi | Wirtschaft

Lesen Sie diesen Artikel auf Hindi, um mehr über die unterschiedlichen Grade der Preiselastizität der Nachfrage nach einem bestimmten Rohstoff zu erfahren.

(1) सास्पेक लोचदार माँग ( relativ elastische Nachfrage):

जब्जब वस्वस तु्फलस परिवर्परिवर होने्फलस वरूप्फलस उसकी्परिवर ज्परिवर

अर्थात् ,

दूसरे शब्शब में ,

Illustration ाउद ( Illustration):

चित्चित 2 में इस्स थिति प्प्रदर किया गया है है कीमत परिवर्परिवर मा माम अधिक पड़तात त्पारभ पड़ता है है अतः अतःाम की लोच लोचाइक से अधिक अधिक है

(2) सास्पेक बेलोचदार माँग (relativ unelastische Nachfrage):

जब जब वस्वस की कीमत कीमत्परिवर तन्फलस उसकी माम ँग में कमाआनुप परिवर्परिवर माँग ँगाकह कहाकहा है है

अर्अराथ ,

Illustration ाउद ( Illustration):

अर्अराथ e इकाइक से से कम है

इस इस्स को चित्चित 3 में दिखाया गया है है

चित्चित में ΔP में कीमत कमी होने माम में ΔQ की्वृद हो हो रही हैाक माम कीाम ँग लोचाइक ई से है

(3) इकाइक लोचदार माँग (Einheitselastizität der Nachfrage):

जब वस तु्वस की की कीमत्परिवर केापरिण्मस उसकी उसकीाम है परिवराहोत ँग परिवर परिवर्परिवर होताहोत ँगाकह ँगाकहा ताजा है

अर्थात् ,

Illustration ाउद ( Illustration):

अर्अरात् माम की की लोचाइक है है

इस इस्स को चित्चित 4 में दिखाया गया है है

चित्चित में माँग का आनुपातिक परिवर्परिवर कीमत कीमत केाआनुप परिवर्परिवर के बराबर है, अतः अतःाँग की लोच लोचाई के केाबर है है

अतिपरवलयाअतिपरवलयार - माँग वक्वक का एक एक विशेष ( Rechteckige Hyperbel - Ein Sonderfall der Nachfragekurve):

जब माँग वक्र अतिपरवलयाकार (Rechteckige Hyperbel) अतिपरवलयाअतिपरवलयार वह वह्वक है जिसके अन्तर्तर बनाबन गए गए्चतुर का क्षेत्षेत बराबर होता है है इसका काक यह है्रत्येक चतुर्चतुर का क्षेत्षेत वस्वस किये कियेाज वाले कुल्व को्रकट प्प करता है है

इसलिए निष निष्कर्ष निकाला जा सकता है है्वस की की कीमत के कमा ज्स थिरा ।ा। चित्रफल 5 = क्षेत्रफल OBTP = क्षेत्रफल OEJP 1 है है इसलिए अतिपरवलयाकार माँग वक्वक के सभी्बिन पर माम की लोच लोचाइक ई होगी

(4) पूर्पूर बेलोचदार माँग (vollkommen unelastische Nachfrage):

जब वस वस्वस की कीमत कीमत्परिवर तन फलस्फलस उसकी उसकीाम में कोई्परिवर तन होता ँग माम ँग कहते

अर्थात् ,

माम का आनुपातिक परिवर्परिवर = 0

Illustration ाउद ( Illustration):

अर्अराथ् माम की की शून्शून है है

इस इस्स को चित्चित 6 में दिखाया गया है है शून्शून लोच की कीा में मेंाँग वक्वक Y- अक्अक समानान्न होगा।

(5) ँग्पूरा लोचदार माँग ( Perfekt elastische Nachfrage):

जब्जब्वस्परिवर्परिवर्पूर्पर्पर्परिवर्परिवर्पर्पूर्पूर्पूर्पूर्पूर्पूर्पूर्परिवर्परिवराणतयालोचदाहोता

ऐसीम ँगम ँगदश मेंवस मेंवस तुषवस तुषसूक तुषत तुषत तुषत तुषत तुषत हैतथ

पूर्पूर प्रतियोगिता वाले बाजार में माम वक्वक र लोच्अनन (पूर्णतया) लोचदालोचद होती होती। किन्किन व्यायारिक एवं एवंाव्स जीवन में वस्वस किसी्वस की माम पूर्पूर लोचदालोचद माम नहीं होती होती

पूर्पूर लोचदार माँग की कीा में ,

Illustration ाउद ( Illustration):

अर्अरात् माँग की की लोच्अनन लोचदालोचद (अथवा पूर्पूरा लोचदार) है है

इस इस्स को चित्चित 7 में दिखाया गया है है

चित्चित में DD माम वक्वक पूर्णतया लोचदालोचद है है X- अक्अक के समानान्न पड़ी रेखा के के में होता है है उपर्उपर्त पाप स्थितियों विश्विश के बाब हमाम की्स थितियों एक चित्चित र्चित्रदर कर (हैं्चित 8) |

माम ँग्श कातुलन्त त्विश तालिका केलिक्रूप एक्रस्रस किया जा सकता हैा है:

 

Lassen Sie Ihren Kommentar