Verschiedene Konzepte des Nationaleinkommens Hindi | Wirtschaft

Lesen Sie diesen Artikel auf Hindi, um mehr über die verschiedenen Konzepte des Volkseinkommens in der Wirtschaft zu erfahren.

Konzept Nr. 1 (Bruttoinlandsprodukt zum Marktpreis):

एक एका वर्वर ष में किसी्उतादकों द्दारा जितनी जितनी्अन वस्वस औराओं का उत्मूलाप होता है (जिसमें्मूल ह्हास भी) ह्हास भीास जाजा है है

कुछ उत्उतादक गैर-निवानिव या विदेशी भी भी सकते सकते हैं उदाउद के के, भाभ में कई विदेशी बैंक और कम्पनियाँ काक्र हैं जिनके द्वारा देश वस्वस तथा सेवाओं का उत्उताप होता है इनके द्वारा की गई मूल्मूल वृद्वृद भी भाभ के घरेलू्उताप में जोड़ी जाज ती है

इस इस्रकार, एका लेख्वर में में्उतादकों (सासाम्य निवासियोंा गैर-सियोंासियों) द्वारा जितनीा र्अन तिम्वसा औरा सेवासेव MPा का उत् MP MPा का ) कहा जाता है है

सकल सकल उत्उताप की विशेषताएँ ( Merkmale des Bruttoinlandsprodukts):

ich. इसमें इसमें केवल देश की सीमासीम में उत्उताप वस्वस और औरासेव को ही्सम किया जाता है है

ii. यह उत्पाप के सकल्मूल का माप प्रस्रस करता है है सकल (Brutto) शब्शब इसलिएा गया है्क मूल्मूल ह्रास (Abschreibung) या स्स पूँजीार्र के (Verbrauch von festem Kapital) का मूल्मूल भीाश होता हैा है

iii. सकल उत घरेलू्पाप में केवल अन्अन वस्वस व सेवासेव के्मूल की गणना कीाज ती है इसमें इसमें्चे माल, बिजली, ईंधन ईंधन्मध्यवर वस्वस के्मूल को्मूल कोाश नहींा जाजा है है

iv. इसमें उत भौतिक्पाप नहीं बल्बल उत्उतादित वस्वस व सेवासेव केाजार मूल्मूल यामिल किया जाता है है

v. सकल मूल्मूल वृद्वृद को एक लेखा वर्वर के लिए लिएा जाता है है

vi. इसका मापन प्प कीमतों परा जाता है है Das BIP von 2006 wurde in der Zeit von 2006 bis 2006 in der Zeit von 2006 bis 2006 als BIP in der Zeit von 2006 bis 2006 in der Zeit von 2006 bis 2006 in der Zeit von 2006 bis 2006 in der Zeit von 2006 bis 2006 in der Zeit von 2006 bis 2006 in der Zeit von 2006 bis 2006 in der Zeit von 2006 bis 2006 in der Zeit von 2006 bis 2006 in der Zeit von 2006 bis 2006 in der Zeit von

ध्धाय दें:

कुल् = ष्उत में्उताप दित्मूल तिम्मूल तुओंासेव का मूल्मूल

अथवा

BIP MP =

Konzept Nr. 2 (Bruttosozialprodukt zum Marktpreis):

सकल सकलार्ट्रीय उत्पाद की धारणा केवल केवल्तर्गत साम्न निवानिव द्वारार्पादित अन्तिम्उत्उताप द्मूल मूल्मूल मूल्समाप द्मूल य्मूल सम्सम

इस इस्रकार, बाजार कीमत पर सकलाट्ष्रीय उत्पाद (GDP MP )

विदेशों विदेशों शुद्शुद सास आय (Nettofaktoreinkommen aus dem Ausland):

विदेशों से शुद्ध साधन आय एक देश के सामान्य निवासियों द्वारा दूसरे देशों को अपनी साधन सेवाएँ व सम्पत्ति प्रदान करने के बदले प्राप्त आय (लगान, मजदूरी, ब्याज तथा लाभांश) और इस देश की घरेलू सीमा में विदेशियों द्वारा प्रदान की गई सेवाओं के बदले में दी दी गई आय अन्अन के बराबर होता है है

विदेशों विदेशों शुद्शुद साधन आय आयाधन्त या ऋणात्त हो सकती है है यदि यदि विदेशों शुद्शुद साधन आय धनात्त्ट उत्पाद, सकल सकल्उताप से अधिका है है इसके इसके विपरीत यदि विदेशों शुद्शुद सास आयाऋण्त होती है तो सकलार्ष्ट उत्पाद, सकल सकल्उताप से कम कमा है है

विदेशों विदेशों शुद्शुद सास आय आय के ( Komponenten des Nettofaktoreinkommens aus dem Ausland):

( i) कर्करामच की शुद्ध क्षतिपूर्ति (Nettovergütung der Mitarbeiter):

निवानिव श्रमिकों, विदेशों्अस्थायी रूप्रमिकों क्श षतिपूर्षतिपूर्षतिपूर ति्क रमिकों्श रमिकों्श्श ति्श म्श रमिकों्श श्श्थ रमिकों्रमिकों

( ii) [Nettoeinkommen aus Vermögen und Unternehmertum (außer einbehaltenen Erträgen von im Ausland ansässigen Unternehmen)]:

एक एक देश केासियों द्वारा लगान, ब्याज, लाल के रूप रूप्रार्प आय तथा शेष्रकार के भुगताभुगत का अन्तर पत्पत्पत तिा अन्अन तर्पत

(iii) Einbehaltene Nettoeinkünfte gebietsansässiger Unternehmen im Ausland:

विदेशों्स निव्सानिव आय्कम पनियों प्पारतिध आय्अन दर्स की्सीम सीम्कम पनियों्पारतिध आय्कारित आय्अन तर्शुद ध्पारतिध आय आयाबता है

Konzept Nr. 3 (NNP MP ) (Nettonationalprodukt zum Marktpreis):

उत्पादन कार्र में्प किये जाज वाले पूँजीगत्यन्त र-धीरे घिसते रहते रहते तथा मशीनें मशीनेंा यन्त्र, इसलिए्अप रार्ष्ट उत्उताप

अतः अतः यदि GNाट्ट्रीय उत्पाद (GNP) में से्मूल ह्रास या घिसाघिस व्व (Abschreibung) को्घट्दें्ट विशुद्पादन (NNP) प्पार (NNP) प्पाप इसको 'बाबाज मूल्मूल पर रार्ष्ट आय' (Nationales Einkommen zum Marktpreis) भी कहा जाता है है

Abschreibungsbestandteile:

ich. सासान्न टूट-फूट (normale Abnutzung);

इनमें खर खर्खर सम्सम हैं जो जो्उताप के दौरादौर स्साथ पूँजी की घिसाघिस काक करने करने पड़ते पड़ते हैं

ii. अप्अप (Veralterung):

इससे इससे्रार उन्खर चों से है उत्उताप को को पूँजीगत मशीनों पुरापुरा पड़ने पड़ने प्पाथ न पर नई मशीनों करने्प रयोग करने केाक करने करने करने पड़ते

iii. मशीनों मशीनों आकस्आकस हानि (unbeabsichtigter Maschinenausfall):

इसमें इसमें्पादन प्रक्रका के केादौर होने वाव मशीनों के्बारेकड आदि पर पर होनेाले खर्खर चों्सम किया जाता है है

Konzept Nr. 4 ( NDP MP ) ( Nettoinlandsprodukt zum Marktpreis ):

बाबाज कीमतों पर्ध घरेलू्उताद (NDP MP ) का अभिप्अभिपाय एक्वर में निवनिव एकएक

ाअतःाज (GDP MP ) औराजाज (NDP MP ) मेंाकेवलार द्शुदाप (GDP MP ) पर्शुद घरेलू उत्उताप (NDP MP ) मेंाघिस व्व सम्सम नहीं होता।

इस इस्रकार, बाजार कीमत पर्शुद घरेलू उत्पाद एक एक्की ध में्गैराप न इसमें इसमें घिसाघिस मूल्मूल घटा दिया जाता है है

Konzept # 5. शुद्शुद घरेलू आय (Netto-Inlandseinkommen):

अथवा

NDP FC ( Nettoinlandsprodukt zu Faktorkosten ):

एक्एक्गत एका के्वर में्अनाप सास (NDY) याशुद लागत (NDP FC ) कहास धनाद (NDP FC ) शुदापर धनाद धनाद दूसरे दूसरे्दों में, साधन लागत पर शुद्शुद घरेलू उत्उताप को ही्शुद घरेलू आय आय भी कहते

इस प्पारक,

[शुद्ध घरेलू घरेलू] = [सास लाल पर शुद्शुद घरेलू उत्पाप]

एक एका स्वर ष्अर साधन धन (लगालग + मजदूरी + ब्याज + लाभ) के्स साधन लागत गत्शुद उत्शुद उत्उत लाल गत

Konzept # 6. Bruttoinlandseinkommen (Bruttoinlandsprodukt zu Faktorkosten):

सास लाल पर सकल घरेलू्उताप (GDP FC ) घरेलू घरेलूा में एक एका वर्वर में सामाम्न निवासियों द्दारा मजदूरी, लागत, ब्लाज भाल के रूप रूप अर्अर आया जोड़ जोड़

GDPास लागत पर्शुद घरेलू्उताप (GDP FC ) मेंाघिस व्व (GDP FC ) में्हार भी्समार, जबकिाहोत हैाल पर्शुद ध्उत व्उताशुद (NDP FC ) मेंावट वट्उता FC (NDP FC )

Konzept Nr. 7 (NNP FC ) (Nettosozialprodukt zu Faktorkosten) (Nationaleinkommen):

Nास लागत पर शुद्शुद रार्ष्ट उत्पाद (NNP FC ) को हीार्ष्ट आय कहते कहते हैं रार्ष्ट आय अथवा साधन लागत पर शुद्शुद राष्ष्ट उत्उताद मजदूरी, लगान, ब्याज और लाभ भ रूप उत्उतादन केास कोाधनों को दियेाने वाव भुगत संक्संक में, समस्समस साधन भुगताभुगत के के को हीार्ष्ट आय कहते हैं।

किसी लग एका वर्वर किसी्अर देश सास धन (लगालग + आय + ब्आयाज ला भातथ)

अर्अरात् साधन्ष्ट उत्शुदाद (NNP FC ) एक्वर्य तासियोंाम्न निवासियोंाराअर्न जित्साधना अर्धन जितास धनाधन का का जोड़ा का

'घरेलू' चर चर 'रार्ट्ट' चर में में बदलने के लिए 'शुद शुद शुद्शुद सास' के के घटक को जोड़ा जाजा है है घरेलू घरेलू आय्थाथ् सास लाल पर शुद्शुद घरेलू उत्उताप घरेलू चर चर है N सास लागत पर पर्ध राष्ष्ट उत्उताद (NNP FC ) बनाबन केाके धन आय कोा जाता है है

अर्थात्

Konzept Nr. 8 (Bruttosozialprodukt zu Faktorkosten):

सकलार्ष्ट आय एकान्देश्न निव्वर ष्समाराय्न निवानिव ल्वारा अर्अर साधन लागतों का कुला उपभोग (घिसावट व्व) सम्सम मिलित

यदि यदिाधन लागत पर्शुदाप मेंाघिस्ष्ट उत्पाप मेंाघिस व्व को कोागत सकलाल (GNP FC ) प्पार्प हो

Konzept # 9. निजी आय ( Private Income):

निजी निजी आय से्अभिपाय उस उस आय होता है जो जो्क्षेत के के लोगों को किसी्स रोत्पार्प होती है इसके्तर्गत निजी्क्षेत र मिलनेाव (जैसे - व व, किराया, ब्याज, लाभ, मिश्रित रित) तथा गैर-आय भुगताभुगत (जैसे - सभी्पारक) (जैसे - सभी्जैसेारक) इसमें इसमें से प्रार्प शुद्शुद आय भी्सम होती होती है

निजी क्षेत्षेत की आय ज्जाञ करने के लिए, निजी्क्षेत को को उत्उताप त, विदेशों विदेशों्राप्प शुद्शुद सास आय भी भी इसके अतिरिक्अतिरिक, निजी्बाय्न, शेष्विश से्हसात्न, शेष्विश्न और्शुद्न्न्ट्ट्ट न्बाय को्बाय को्सम मिलिता जाता है है्सम मिलिता

सूत्सूत के रूप रूप ,

Konzept # 10. व्यक्यक या वैयक्वैयक आय (Persönliches Einkommen):

व्व्यक आय से से आशय उस्वर ष की अवधि में्व्यक अथवा अथवारों द्वारा वाव्स रूप से है्पार्प होती है है

वैयक्वैयक तिक सदैव सदैवार्ट्ट आय्आयाप के सास द्वारा जितनी आय्ज जार है, वह्हें समस्त उपलब्त उपलब्उपलब नहीं नहीं रार्ष्ट आय आय में अनेकाकटौतिय काक जाज हैं हैंा कुछ कुछ मदें जोड़ीाज हैं हैं इसके इसकेाद प्रार्प रार वैयक्वैयक आय कहलाकहल है है

वैयक्वैयक आय की कीा ( Berechnung des persönlichen Einkommens):

व्व्तिगत आय कीा हेतु रार्ष्ट आय आय मेंाघट व वाज वाज वाव मदें्निम हैं:

ich. घटाघट जाने वाली मदें (abzurechnende Posten):

( a) निगम आय कर (Körperschaftsteuer):

व्वायारिक निगमों निगमों अपने अपनेाल का कुछ हिस्हिसा निगम करों के रूप मेंार को हैाना पड़ता है है इस प्रकाआय आय आया यह यहाग अंशधाअंशध को व्यक्यक आय के रूप प्पार्प नहीं होता। अतः अतः रार्ष्ट आय में सेा दिया जाता है है

( b) निगमों निगमोंा अवितरित लाभ (nicht ausgeschütteter Unternehmensgewinn):

निगम निगम अपनी आय क एक भ अंशध अंशध अंशध में व इसे व पुनः पुनः व व अतः में कर त त ट इस इस इस आय में त त त त त त त त त त त त त

( c) सासाजिक सुरक्सुरका कटौतियाँ (Abzüge für die soziale Sicherheit):

सासाजिक सुरक्षा हेतु्जो डाप प्प्रोविडेण फण्फण ड व कीाफण हैं, हैं्उन भी रार्ष्ट आय निक्उन से्हेतु्यक आय आयालने घटानिक घटाघट

ii. जोड़ी जोड़ीाज वाली मदें (Mitzuliefernde Elemente):

व्व्यक आय कीा हेतु उनार्ष्आय आयामें व्व्यक को जो्हसात भुगतान प्रार्प होते, हैं्उन जोड़ जोड़ा जाता है है इन इनाभुगत में पेंशन, बेरोजगाबेरोजग-भत्ता आदि सम्सम रहते हैं हैं

इस प्पारक ,

Konzept # 11. वैयक्वैयक प्प्रयोज आय (Persönliches verfügbares Einkommen):

व्यक्तियों अथवा परिवारों को प्रार्प होने वाव व्यक्यक आय, व्यय करने योग्योग य में्उपलब नहीं होती होती इसका काक यह है कि कि्व्यक आय का एक भाग व्यक्यक और परिवारों द्वावा व्यक्तिगत प्रत्रत्यक करों; जैसे - आय-कर, भवन-कर आदि के रूप मेंासरक को चुकाना पड़ता है है इसके इसके्अतिरिक कभी-कभी प्पारश

द्दारा निर्धारित कानूनों एवं नियमोंा उल्उल करने करने परापरिव को दण्दण एवं एवं्जुराना भी देना पड़ता है्पार्प के्अन्तर रखा जा इस इस्रकार वैयक्तिक प्रयोज्रयोज आय्जाञ करने करने के्वैयक्यक्यक करा रार र की्पार्प को कोाघटा होगाहोगा होगा।

12. रार्ट्रीय प्रयोज्रयोज आय (National Disposable Income, NDI):

रार्ट्रीय प्रयोज्रयोज आय से्अभिपार किसी किसी देश कीाबाज र कीमत पर्शुद ध है है किसी किसी देश कीाष्ट्रीय प्रयोज्रयोज, उस उस देश कीार्ष्ट, शुद्शुद अप्रत्यक्ष कर तथा शेष्व से्विश प्राप्प चालू हस्हसात्न आया जोड़

अर्थात्

रार्ट्रीय प्प्रयोज य की सकला शुद्शुद धारणाएँ (Brutto- und Nettokonzepte des verfügbaren nationalen Einkommens):

ich. शुद्शुद राष्ट्रीय प्रयोज्रयोज आय को ज्ञात करने के लिएास लागत्ष्रीय उत्पाप (रार्ष्ट में्रयोजाद शुद्शुद अप्अप्रत्यक में्शुद

संक्संक में ,

ii. शुद्शुद रार्ट्रीय प्रयोज्रयोज आय में स्स पूँजी के के को पर पर सकलार्ट्रीय प्रयोज्रयोज आय (GNDI) को्जाञ किया जाता है है

रार्ष्रीय आय आय एवंार्ष्ट प्रयोज्रयोज आय आय केा अन्अन ( Unterschied zwischen NI und NDI):

ich. रार्ष्ट आय की गणना सदैव सदैवास लागत पर पराज्रीय प्प्रयोज आय आया गणनाजाज कीमत पर पर कीाज ती है

ii. रार्ष्रीय आय में में केवलास आय आय कोाश्ष्रीय प्रयोज्रयोज आय आय मेंार्ष के केास-साथ शेष विश्विश से शुद्शुद अन्अन अन्अन को

 

Lassen Sie Ihren Kommentar